सूर्य (Translation Below)

नमस्कार मित्रों। आज मैं आपके लिये एक हिन्दी कविता लाया हूँ। मैं अभी देवनागरी में type करना सीख रहा हूँ इसलिये कृपया मेरी गलतियों को क्षमा करें। आशा है आपको कविता पसन्द आये। सूर्य आखिर सूर्य जागा है। • आखिर सूर्य जागा है,घोर अँधियारा हमने लाँघा है।उषा की लालिमा छाई है,हमने फिर खुशहाली पाई है।Continue reading “सूर्य (Translation Below)”

Fall of the Eternal Darkness

I look at the sky The eternal darkness. Seems as if joy has been struck by illness . The days are dark The nights darker Evil is stark Good is weaker . There is no moon Far off is noon Never ending pain Oh! Humanity has been stained . No silver lining on the cloudContinue reading “Fall of the Eternal Darkness”

Create your website at WordPress.com
Get started